PART 1


PART 2


PART 3

The Inside Story

डिंपल से सीख लें फेसबुकिया बुद्धिजीवी
अभिव्यक्ति का सशक्त हस्ताक्षर बन चुकी फेसबुक इन दिनों जहां सरकार के लिए सिरदर्द बन चुकी है वहीं भदोही की डिंपल मिश्रा के लिए जीवन के अंधकार को दूर करने का काम भी कर रही है। दरअसल महाराष्ट्र में रहने वाली डिंपल मिश्रा का प्रेम विवाह डेढ़ वर्ष पूर्व भदोही के ही विपिन मिश्रा के साथ ठाणे के अंबरनाथ दुर्गा मंदिर में हुआ था किन्तु ससुराल पक्ष की ओर से दहेज़ की मांग के चलते दोनों के बीच अलगाव हो गया। इसी बीच मई 2011 में डिंपल ने एक बेटी को जन्म दिया और जुलाई 2011 में डिंपल के पिता का निधन हुआ। इतने झंझावातों के बीच डिंपल को पता चला कि मई 2011 में ही विपिन ने दूसरी शादी कर ली है। डिंपल ने इसे अपनी नियति मान ठाणे में अपनी बेटी के पालन-पोषण हेतु कपड़े सिलने का काम करने लगी। किन्तु अपनी बेटी को बड़ी होते देख डिंपल ने उसे उसका हक़ दिलाने की ठान ली और बेटी को पिता का नाम देने की जिद में उसने वापस बाकायदा बारात लेकर भदोही जाने का ऐलान कर दिया।

अपनी कहानी और अपने आगामी कदम को फेसबुक पर डालकर उसे व्यापक जनसमर्थन तो मिला ही; उसकी मदद हेतु कई स्वयंसेवी संस्थाओं के साथ सरकारी-गैरसरकारी संगठन भी आगे आए हैं। यहां तक कि कानून व्यवस्था और प्रशासन ने भी डिंपल को सुरक्षा का आश्वासन दिया है। हालांकि डिंपल के भदोही आने की खबर से उसकी ससुराल वालों की त्योरियां चढ़ गई हैं किन्तु उसने अपनी बेटी के भविष्य को देखते हुए जो अप्रत्याशित कदम उठाया है उसकी सराहना तो होनी ही चाहिए। डिंपल की इस मुहिम को अब उत्तरप्रदेश की उन पंचायतों का साथ भी मिलने लगा है जो लड़कियों व महिलाओं पर तमाम तरह के प्रतिबंध लगाने के लिए कुख्यात थीं। भदोही के ग्राम मूलापुर की 9 ग्राम पंचायतों ने डिंपल को बहू के रूप में स्वीकार किया है और उसके पति व ससुर के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जा रही है। यहां तक की आसपास की अन्य पंचायतों ने तो डिंपल के ससुराल का सामाजिक व आर्थिक बहिष्कार करने की मांग कर दी है। डिंपल की इस जीत से पूरा क्षेत्र उत्साहित है और लड़कियों के लिए डिंपल एक आदर्श बनकर उभरी है। आधुनिक समाज में पली-बढ़ी डिंपल ने बिना किसी सहायता के अपने ससुरालियों को झुका दिया है। डिंपल की इस जीत में निःसंदेह फेसबुक के योगदान को नकारा नहीं जा सकता।

जब तक डिंपल ने अपनी पीड़ा को सार्वजनिक रूप से जाहिर नहीं किया था तब तक अपने ससुराल से लड़ने का सामर्थ्य उसमें नहीं था। जैसे ही फेसबुक पर उसे समर्थन मिलने लगा और उसका मामला ठाणे की सीमा को लांघते हुए महाराष्ट्र और फिर देश भर में प्रचलित हुआ उसके अंदर भी अन्याय के प्रति लड़ाई का साहस जाग गया। जो डिंपल भारतीय मूल्यों के चलते पति की प्रताड़ना को चुपचाप सहती रही उसे आम जनता ने ताकत दे दी और यह ताकत ही उसे महाराष्ट्र से वापस उसके गांव ले गई। डिंपल जैसे और भी न जाने कितने उदाहरण हैं जिन्होंने सोशल नेटवर्किंग साईट्स द्वारा अपने हक़ की लड़ाई को अंजाम तक पहुंचाया है। किन्तु पिछले कुछ समय से अभिव्यक्ति के इस व्यापक मंच का भी दुरुपयोग होने लगा है। मामला चाहे पश्चिम बंगाल में महापात्र से जुड़ा हो या मुंबई में असीम त्रिवेदी से, या हाल ही में दिवंगत बाल ठाकरे की अंतिम यात्रा में मुंबई बंद को लेकर दो लड़कियों की असहमति; फेसबुक ने हर उस आवाज को धार दी है जो उसके माध्यम से उठाई गई है। हां इतना अवश्य है कि फेसबुक को अपने हक़ के रूप में इस्तेमाल करने वालों की तादाद अपेक्षाकृत कम है जबकि खुद को सुर्ख़ियों में बरकरार रखने वालों की भीड़ बढती जा रही है।

यह भीड़ ऐसे-ऐसे विवादों को जन्म देने लगी है जिसने अन्य मुद्दों को पीछे छोड़ते हुए खुद राष्ट्रीय बहस का मुद्दा बना लिया है| यहां तक कि सर्वोच्च न्यायालय को भी अभिव्यक्ति की आजादी और उससे जुड़े कानूनी पक्षों पर अपनी राय जाहिर करनी पड़ी है। तब यह सवाल प्रमुखता से खड़ा होता है कि क्या सर्वोच्च न्यायालय अथवा राजनीतिक मंच क्या फेसबुक की आपत्तिजनक टिप्पड़ियों पर प्रतिक्रिया देने हेतु ही है? क्या अभिव्यक्ति की आजादी का वर्तमान दुरुपयोग वर्जनाओं की सीमा को नहीं लांघ रहा? क्या यही उपयोगिता रह गई है अभिव्यक्ति के इस मंच की ताकत की? कहने में गुरेज नहीं होगा कि डिंपल ने फेसबुक के सही इस्तेमाल से यह साबित किया है कि सुविधाओं का कैसा उपभोग किया जाना चाहिए यह आप पर निर्भर करता है। आप चाहें तो परिस्थितियों को भी अपने पक्ष में कर सकते हैं या फिर विवादों को जन्म देकर खुद को विवादों के घेरे में ला सकते हैं।

Thanks To:
http://www.kharinews.com/index.php/2012-07-21-05-19-35/21021-2012-12-04-08-48-21

Woman takes to Facebook to get back husband

After Dimple Mishra, a 27 year old from Mumbai, abandoned by her husband, turned to Facebook for support, a panchayat in Bhadohi ordered her husband’s family to accept her as their daughter-in-law or face a boycott.

Dimple, a native of Chaubepur in Varanasi who had been working in Thane with a telecom company, married Vipin Mishra after she met him in the city in 2009. The marriage was formalised without the consent of Vipin's family.

During that time Vipin, who also hailed from Varanasi’s neighbouring district, Bhadohi, was working at a photo studio in Thane.

But when Vipin's family came to know of the marriage, it started to pressurise him to return. For some time Vipin resisted, but in April 2011, a few days before a daughter was born to the couple, he returned to Bhadohi and re-married another girl as per his family’s wishes.

After appeals to her in-laws and letters to the district administration did not help, Dimple turned to Facebook this September to build support for her cause.

“Whoever I turned to for help, wanted something in return. The police paid no attention to my complaint. So I thought of turning to Facebook and befriending journalists and bloggers to help me and my daughter,” says Dimple.

She says that her in-laws had once come to Thane, physically assaulted her and demanded Rs 10 lakhs. Her husband had discussed with her the possibility of getting re-married to please his parents but to continue living with her. The stress of the situation killed Dimple’s father Balwant Mishra in April 2011.

“My in-laws said that our marriage was not in accordance with local customs. For it to be accepted, we would have to give them dowry and host a feast. Vipin left in April on the pretext of seeing his ailing
grandfather and married a girl from Allahabad in return for a huge dowry. He met me a few times after our daughter was born but then told me he could no longer be responsible for us. My in-laws began to
threaten me saying that I had brought shame to them,” she says.

On Saturday, Dimple reached Varanasi with her daughter and was received by a crowd of supporters, among them social activists—many of whom had first heard of her plight on Facebook. The local
administration provided her security as she reached the locked home of her in laws home in Bhadohi.

On Sunday, a panchayat was called to discuss the matter. Dimple presented photographs as proof of the marriage and of the couple’s life together. In the absence of representation from Vipin’s family the panchayat ordered that Dimple be accepted as his wife within a week, failing which the family would be socially boycotted.

“I had written to the National Human Rights Commission (NHRC) and to the National Commission for Women. But it is the support from Facebook which gave me the courage to come to Bhadohi. The panchayat has spoken, now it is for Vipin’s family to respond. This is a fight for my daughter’s rights. I need to have answers to the questions she will ask me when she grows up,” says Dimple.

Thanks to:
http://www.thesundayindian.com/en/story/woman-takes-to-facebook-to-get-back-husband/14/44386/

Dumped wife takes revenge via Facebook - MUMBAI

Ulhasnagar woman exposes man when he leaves her for dowry

A woman sought justice through Facebook and took her husband, who dumped her to marry again, to task. Dimple Balwant Mishra, 28, and Bipin got married on October 29, 2009 at Shiv Mandir, Ambernath, after a brief affair.

When Bipin brought Dimple to his home, his father said that she would be accepted only if she brought Rs10 lakhs as dowry. The couple started staying at her home in Ulhasnagar with her father.
But, the marriage was not registered as Bipin kept on postponing it. "He claimed that his documents were at his father's place, so he would not be able to get them. One day he said that I should get him Rs7 lakh if I want to register our marriage," says Dimple.

Dimple gave birth to her daughter Aanchal in May 2010. "Prior to her birth, Bipin told me that he is going to his father's place to get his documents. He never returned. After repeated calls, he told me that he was in Uttar Pradesh and his parents are getting him married. He asked me to come to his place with Rs10 lacs if I wanted to stay with him," she says.

Dimple's father Balwant decided to sell the house to arrange for Rs7 lacs, but Dimple refused. Later, she came to know that on May 5, 2010, he got married to one Chama Pandey and was paid Rs15lacs by the girl's family. On May 16, 2012 Dimple approached the women's complaint cell of the Ulhasnagar police station. But no action was taken.

Dimple uploaded her story and her pictures with her husband on Facebook. She got in touch with journalists and social workers in UP through the Purvanchal Press Club. On September 9, she approached Vitthalwadi police station. A case was registered on September 11 under various sections.

On November 13, when Bipin went to UP to attend his cousin's marriage, the media published the story. They also asked Dimple to come to UP. She reached there on November 29. Bipin and his family had fled by then. On November 30 when she landed there, over 1000 villagers welcomed her.

On December 1, the panchayat decided to boycott Bipin and his family. The villagers registered a case of domestic violence against Bipin with the PGM Ganpur court. On December 12, Dimple returned to Ulhasnagar. Bipin's second wife left him, when she got the news.

"The hearing is on December 20. I want him to either marry me or give me compensation as I have to take care of my daughter," she says.

Thanks To:
http://dnasyndication.com/showarticlerss.aspx?nid=sA3W0u/dND8B709fPu3y3Y4TwO0ybd34J2gxvqpJefA=

डिंपल मिश्रा को जान से मारने की धमकी

मुंबई [ओमप्रकाश तिवारी]। खुद को छोड़ दूसरी शादी रचा चुके पति का भंडाफोड़ करने पर तुली डिंपल मिश्रा को जान से मारने की धमकियां मिलने लगी हैं। डिंपल 29 नवंबर को भदोही में हो रही अपने चचेरे देवर की शादी में पहुंचकर अपने पति की पोल खोलना चाहती है।

ठाणे जनपद के उल्हासनगर में अपनी डेढ़ साल की बच्ची आंचल के साथ रह रही डिंपल को अकेला छोड़ उसके पति विपिन मिश्रा ने गांव में दूसरी शादी कर ली है। पति से अपना हक एवं अपनी बेटी के लिए पिता का नाम लेने पर अड़ी डिंपल ने अब समाज का दरवाजा खटखटाने का फैसला किया है। इसके लिए वह ठीक उसी दिन ठाणे से अपने पति के गांव भदोही स्थित मूलापुर पहुंचना चाहती है, जिस दिन वहां उसके चचेरे देवर मनीष मिश्र की शादी है। लेकिन उसे वहां आने से रोकने के लिए उसे जान से मारने की धमकियां मिलनी शुरू हो गई हैं। गौरतलब है कि डिंपल ने फेसबुक के जरिए अपनी कहानी बयान कर पिछले दिनों मीडिया का ध्यान अपनी ओर खींचा है।

डिंपल ने दैनिक जागरण से बात करते हुए कहा कि दो दिन पहले 26 नवंबर की शाम 5 बजकर 52 मिनट पर मोबाइल नंबर-9594939190 से फोन करके चेतावनी दी गई कि यदि उसने शादी के दिन 29 नवंबर को भदोही आने की कोशिश की तो उसे बुरे परिणाम भुगतने होंगे। इसके बावजूद डिंपल भदोही जाकर अपने पति विपिन के रिश्तेदारों एवं समाज के अन्य लोगों के सामने अपने अधिकार की आवाज उठाना चाहती है। डिंपल की मां उसके पिता से अनबन के बाद 1998 में ही उसे छोड़कर मायके चली गई थी। पिछले वर्ष उसके पिता का भी निधन हो गया। अब डिंपल कपड़े सिलकर अपने डेढ़ वर्ष की बेटी का पालन-पोषण कर रही है।

धन्यवाद :
http://www.jagran.com/news/national-dimple-mishra-threats-to-kill-9890112.html