ग्रेटर नोएडा। नोएडा में हुए इंजीनियर अंकित चौहान मर्डर केस में सीबीआई और एसटीएफ को लंबे समय बाद कामयाबी मिल गई है। एसटीएफ ने घटना को अंजाम देने वाले दो बदमाशों को अरेस्ट किया है, जबकि एक आरोपी की करीब चार माह पहले मौत हो चुकी। उनकी निशानदेही पर हत्या में बरामद होंडा एकार्ड कार को भी बरामद कर लिया है। एसटीएफ के अधिकारियों की मानें तो फॉर्च्‍यूनर कार लूटने के लिए घटना को अंजाम दिया गया था। सीबीआई ने इन हत्यारों पर पांच लाख का इनाम रखा हुआ था। पकड़ा गया एक आरोपी दिल्ली से सिविल इंजीनियरिंग कर चुका है। इस मामले में अनिल दुजाना का नाम भी सामने आया है। पकड़ा गया एक आरोपी अनिल दुजाना गैंग के एक सदस्य को कार लूट व चोरी की गाड़ियां बेचता था। एसटीएफ उसे अरेस्ट करने का प्रयास कर रही है।

मालूम हो कि 13 अप्रैल 2015 को सेक्टर—76 बरौला बाईपास के पास में इंजीनियर अंकित चौहान की हत्या कर दी थी। घटना के दौरान अंकित का दोस्त साक्षी गगन दुधौरिया भी साथ था। बदमाशों ने फॉर्च्‍यूनर कार को लूटने के लिए होडा एकार्ड कार को आगे लगाकर रोक लिया। बदमाशों ने अंकित चौहान को कार से उतरने के लिए कहा था, लेकिन अंकित कार से नहीं उतरे। इसके चलते बदमाशों ने गोली मारकर उनकी हत्या कर दी।

पुलिस के लिए बन गया था चुनौती


अंकित चौहान मर्डर केस का खुलासा करना यूपी पुलिस के लिए चुनौती बना गया था। परिजनों की मांग पर यह केस सीबीआई दिल्ली को ट्रॉसफर कर दिया गया। खुलासा न होने पर सीबीआई ने घटना में शामिल बदमाशों पर पांच लाख का इनाम घोषित कर दिया। आईजी एसटीएफ अमिताभ यश ने बताया कि सीबीआई ने एसटीएफ से सहयोग मांगा था।

ऐसे मिला सुराग

एसटीएफ आईजी अमिताभ यश ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान बताया कि अंकित के मर्डर केस में होंडा कार का यूज किया गया था। एसटीएफ होंडा कार की तलाश कर रही थी। जांच के दौरान होंडा एकार्ड का नंबर यूपी 14 बीए 2300 सामने आया। एसटीएफ की टीम ने नंबर के आधार पर कार के मालिक से बातचीत की तो उसने बताया कार को गाजियाबाद के शशांक जादौन को बेच दिया है। घटना के दौरान बदमाशों ने कार की फर्जी नंबर प्लेट लगाई थी। उन्होंने बताया कि जादौन के बारे में छानबीन की गई तो उसकी संलिप्ता सामने आई। उस दौरान शशांक जयपुर था। एसटीएफ और सीबीआई की टीम जयपुर पहुंची तो वहां से मुखाबिर से सूचना मिली ​कि वह दिल्ली निकल गया है। दिल्ली के धौलाकुआं के पास में एसटीएफ ने शशांक जादौन को जाल बिछाकर अरेस्ट कर लिया। पूछताछ के दौरान उसने घटना को अंजाम देना कबूल कर लिया।
 
शशांक ने की थी हत्या

एसटीएफ आईजी अमिताभ यश ने बताया कि शशांक जादौन विजय नगर गाजियाबाद का रहने वाला है। उन्होंने बताया कि पूताछ के दौरान शशांक ने कबूल किया है कि घटना के दौरान श़ास्त्री नगर निवासी पंकज और मनोज कुमार निवासी विजयनगर भी शामिल था। एसटीएफ ने शशांक और मनोज को अरेस्ट कर सीबीआई को सौंप दिया है। इन बदमाशों ने अंकित की फॉर्च्‍यूनर कार को होंडा एकार्ड से ओवरटेक कर रुकवाया था। इसी दौरान अंकित ने कार को बैक कर भागने का प्रयास किया था। उन्होंने बताया कि उसी दौरान शशांक ने पंकज की लाइसेंसी रिवाॅल्वर से गोली मारकर हत्या कर दी। फिलहाल गिरफ्तार आरोपियों को सीबीआई को सौंप दिया गया है।

4 माह पहले हो चुकी है एक की मौत
 
एसटीएफ आईजी अमिताभ यश ने बताया कि घटना में शामिल पंकज की करीब 4 माह पहले मौत हो चुकी है। मल्टीआरगन फेलियर होने की वजह से कविनगर के सर्वोदय अस्पताल में उसकी मौत हुई थी। पूछताछ के दौरान सामने आया है कि अंकित की हत्या पंकज की लाइसेंसी रिवाॅल्वर से की गई थी। उसे बाबा गन हाउस गाजियाबाद से खरीदा गया था। एसटीएफ अभी मामले की जांच कर रही है.

BTech grad held for 2015 murder of TCS techie in Noida

Noida: A Delhi College of Engineering alumnus was arrested on Friday for the 2015 murder of TCS employee Ankit Chauhan, who was chased and gunned down on an April afternoon in the middle of a Noida road. 

It became one of the most sensational cases in recent times after the software engineer’s family suspected a conspiracy in which his wife of 34 days, Ameesha, was involved, and the investigation eventually passed to CBI. 

But police’s special task force (STF), which claimed to have cracked the case, said on Friday 27-year-old Chauhan’s murder was the result of an act of car robbery and the software engineer was a random target who happened to be driving a Fortuner that day, the specific vehicle that the robbers were looking for.

They ruled out all other conspiracy theories. 

The arrested DCE alumnus is Shashank Jadon (25), who the STF said had briefly dabbled in the real estate business after his completing his BTech in 2014, lost money, taken a loan of Rs 4 lakh and was struggling to repay it. 

Jadon had allegedly tied up with Manoj Kumar (35), then a mechanic who now drives an Ola cab and Pankaj, the moneylender.

The trio, STF officers said, spotted Chauhan’s Fortuner on April 13 afternoon and chased him in Jadon’s Honda Accord.

In Sector 76, around 4.30pm when Chauhan was headed for his house in Prateek Wisteria after meeting Ameesha at her Sector 135 office, Jadon managed to ambush him.

He shot at Chauhan after the Accord had managed to overtake and corner the Fortuner. The techie recesived four bullet injuries in his neck and hands and bled to death. Chauhan’s friend Gagan Dudhauriya was also in the Fortuner but was unhurt.

But Jadon and his aides left without the Fortuner, which was the apparent motive of their crime. The plan was to sell it to a man called Satte in Bulandshahr.

Chauhan’s family had suspected the involvement of Dudhauriya and Ameesha. Unhappy with the police probe, Chauhan’s father Dharmveer had on May 2 last year moved the Allahabad high court, which transferred the inquiry to the CBI.

On Friday, Chauhan senior remained far from convinced about the case being cracked.

“There are several loopholes in the police theory. If this was a case of murder with intent of loot, why did not they rob the car? Why was only Ankit hit with multiple bullets?” he said, saying the police to investigate if there was a connection between Jadon and Ameesha.

Jadon, a resident of Pratap Vihar in Ghaziabad, has a good academic record, and had scored 96% in his Class XII boards. Manoj is from Vijay Nagar in Ghaziabad. Pankaj, whose idea it apparently was to steal a Fortuner, sell it and repay the loan, dies earlier this year of multiple-organ failure.

Catching Jadon, said STF IG Amitabh Yash, took nearly two years because he had rigged the number plate of the Accord and changed a ‘3’ to ‘2’ to throw cops off his track.

Eventually, police realised that after scanning a massive database of Accord numbers in the region.
Dudhariya had also told cops the gunman had a tattoo on his left hand. That was the other vital clue.

Yash said CCTV footage had shown the Accord’s registration number as UP 14 BA – 2300. But inquiries showed that registration number had not been issued to an Accord at all. So, they zeroed in on the nearest match UP 14 BA – 2200, which belonged to an Accord. Its owner in Ghaziabad told them he had sold it to Jadon.

Jadon was traced to Jaipur. A CBI and STF team went there but found he had left for Delhi. They finally got to him at Dhaula Kuan in Delhi. He was still using the Accord with the rigged number plate. Interrogating him led the cops to the cab driver.

According to the STF, Jadon said he had taken his licensed revolver and another countrymade gun with him when the trio set out for Greater Noida, looking to steal a car. They found a Fortuner but did not target it because the place wasn’t right.

They spotted Chauhan’s parked SUV near the Accenture office in Noida and waited. When Chauhan was on an empty stretch, they made their move. Near Barola village, Shashank got off and signaled to

Chauhan to come out. But he reversed the SUV and tried to speed away.

That was when Jadon opened fire. But they fled without the Fortuner as people had started gathering there. The revolver was later sold away to Baba Gun House in Ghaziabad.